Monday, 19 April 2010

जय कोटेश्वर महादेव .



जब भी उलझा हूँ देवा, तुझ को ही तो ध्याया है ।
अमृत कुमार शर्मा